अपराध समाचार देश समाचार

बीएचयू की पूर्व छात्रा पर तस्करों का हमला

Smiley face

 वाराणसी। उत्तर प्रदेश में वाराणसी के लंका क्षेत्र में काशी हिंदू विश्वविद्यालय(बीएचयू) की एक पूर्व छात्रा ने पुलिस पर गोतस्करों को बचाने के आरोप लगाए हैं। हालांकि इस युवती के खिलाफ पुलिस ने भी प्रकरण दर्ज किया है। क्योंकि उसने एक व्यस्त सड़क पर लेटकर चक्काजाम कर दिया था। वह एक गोरक्षक को तमाचा मारती भी नजर आई थी।

सूत्रों ने बुधवार को यहां बताया कि पशुओं की क्रूरता के खिलाफ अभियान चलाने वाली छात्रा नेहा यादव पर तस्करों ने मंगलवार की रात हमला कर दिया। अब पुलिस भी उनके (सुश्री यादव) के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है। सुश्री नेहा का आरोप है कि डाफी चौकी के पुलिस कर्मियों के इशारे पर कुछ असमाजिक तत्वों ने उनके पर हमला कर दिया। उसका कहना है कि कुछ पुलिस कर्मियों की शह पर गोवंश की तस्करी होती है। नेहा मूलत: बरेली की रहने वाली हैं और वाराणसी में सीरगोवर्धनपुर में रहती हैं।

पशु तस्करी के बारे में जानकारी मिलते ही उन्होंने पुलिस को सूचना दे दी और खुद भी कुछ स्थानीय निवासियों के साथ मौके पर पहुंची थी। वहां मौजूद कुछ लोगों ने उनके साथ बदतमीजी और मारपीट की, लेकिन मौके पर मौजूद पुलिसकर्मी तमाशबीन बने रहे। हालांकि, पुलिस के क्षेत्राधिकारी ने उनके आरोपों को खारिज कर दिया है। उनका कहना है कि मामले की जांच की जा रही है और दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि इस मामले में एक युवती, 21 पशु तस्कर समेत 26 लोगों को हिरासत में लिया गया है, जिनसे पूछताछ की जा रही है।

गौरतलब है कि सुश्री नेहा ने मंगलवार की रात स्थानीय निवासियों के साथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर डाफी टोल प्लाजा के पास पांच ट्रकों में गोकशी के लिए ले जाये जा रहे पशुओ को छुड़वाया था। इसी दौरान उनके साथ बदतमीजी की गई। आरोप है कि मौके पर मौजूद पुलिसकर्मी मूक दर्शक बने रहे। पुलिस कर्मियों के रवैये के खिलाफ स्थानीय लोगों ने राष्ट्रीय राजमार्ग जाम कर विरोध प्रदर्शन किया था। इस वजह से यहां यातायात बाधित हुआ था। इस दौरान नेहा सड़क पर ही लेट गई थीं। जिन्हें फिर महिला पुलिसकर्मियों ने जबरदस्ती वहां से उठाया।

यह भी जानें
सोशल मीडिया पर बुधवार की सुबह एक वीडियो क्लिप वायरल हुई। इसमें दिखाया गया है कि डाफी टोल प्लाजा के समीप नेहा ने गोरक्षा संगठन से जुड़े एक युवक को पहला थप्पड़ मारा तो दोनों पक्षों में मारपीट शुरू हुई। लंका थानाध्यक्ष ने बताया कि वीडियो क्लिप को सुरक्षित कर पुलिस उसकी तस्दीक कर रही है। वीडियो के सही होने की पुष्टि हुई तो उसे साक्ष्य के तौर पर उपयोग किया जाएगा।

Smiley face