देश राजनीति

न ‘हिन्दू’ को हटाएगी और न ही ‘मुस्लिम’ को छेड़ेगी मोदी सरकार

Smiley face

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार न तो हिन्दू को हटाएगी और न ही मुस्लिम को छेड़ेगी। यानी वह वाराणसी स्थित काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) और अलीगढ़ स्थित अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) का नाम नहीं बदलेगी। एक समिति ने इन नामों में परिवर्तन कर इनसे हिन्दू तथा मुस्लिम शब्द हटाने की सिफारिश की है।

केन्द्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने उक्ताशय की बात कही। उन्होंने कहा है कि बीएचयू और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय एएमयू के नाम से हिन्दू और मुस्लिम शब्द नहीं हटाए जाएंगे।

नकवी ने इन शब्दों को हटाने के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के एक पैनल की ओर से की गयी सिफारिश पर प्रतिक्रिया देते हुए आज यहां पत्रकारों से कहा, ‘ये दोनों विश्वविद्यालय दशकों पुराने हैं। इनके नाम बदलने का सरकार का कोई इरादा नहीं है। इनके नाम से हिन्दू और मुस्लिम शब्द नहीं हटाए जाएंगे।’

हम बता दें कि यूजीसी के एक पैनल ने अपनी सिफारिश में सरकार से अनुरोध किया है कि काशी हिन्दू विश्वविद्यालय और अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के नाम से हिन्दू और मुस्लिम शब्द हटा दिए जाने चाहिए, क्योंकि ये शब्द इन विश्वविद्यालयों की धर्मनिरपेक्ष छवि को परिलक्षित नहीं करते।

इस पैनल का गठन बीएचयू और एएमयू सहित देश के दस केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में अनियमितताओं के आरोपों की जांच के लिए किया गया था।

पैनल ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा है कि केन्द्र से वित्तीय सहायता प्राप्त विश्वविद्यालयों का स्वरूप धर्मनिरपेक्ष होना चाहिए । ऐसे में बीएचयू और एएमयू में हिन्दू और मुस्लिम शब्द नहीं होने चाहिए। इन विश्वविद्यालयो का नाम सिर्फ काशी विश्वविद्यालय और अलीगढ़ विश्वविद्यालय होना चाहिए।

Smiley face